खोज

Vatican News
अस्ट्रेलिया के विदयार्थी और प्रदर्शनकारी जलवायु परिवर्तन के खिलाफ प्रदर्शन अस्ट्रेलिया के विदयार्थी और प्रदर्शनकारी जलवायु परिवर्तन के खिलाफ प्रदर्शन  (AAP IMAGE)

ऑस्ट्रेलिया में आस्था समुदायों ने जलवायु कार्रवाई का आह्वान किया

जलवायु परिवर्तन के लिए ऑस्ट्रेलियाई धर्मसंघियों की प्रतिक्रिया (एआरआरसीसी) ने दो दिवसीय पहल का आयोजन किया है जिसमें ऑस्ट्रेलियाई सरकार से जलवायु परिवर्तन के खिलाफ तत्काल कार्रवाई करने का आह्वान किया है।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

ऑस्ट्रेलिया, बुधवार 20 अक्टूबर 2021 (वाटिकन न्यूज) :  जैसा कि कोप -26 की बैठक नजदीक आ रही है, ऑस्ट्रेलिया के धार्मिक समुदायों ने ऑस्ट्रेलियाई सरकार से सृष्टि की रक्षा के लिए जलवायु परिवर्तन के खिलाफ त्वरित और प्रभावी कार्रवाई करने का आग्रह किया है। ऑस्ट्रेलिया कोयले और गैस का एक बड़ा उत्पादक है और इसकी जलवायु नीतियों और उत्सर्जन में कमी को आर्थिक सहयोग और विकास संगठन (ओईसीडी) में सबसे खराब स्थान दिया गया है।

17 और 18 अक्टूबर को जलवायु परिवर्तन के लिए ऑस्ट्रेलियाई धर्मसंघियों की प्रतिक्रिया (एआरआरसीसी), जलवायु न्याय को बढ़ावा देने के लिए प्रतिबद्ध एक अंतर-धार्मिक संगठन, ने ग्लोबल वार्मिंग से निपटने के लिए तत्काल कार्य करने के लिए प्रधान मंत्री स्कॉट मॉरिसन से दो दिनों की कार्रवाई का आयोजन किया। श्री मॉरिसन की कड़ी आलोचना हुई जब उन्होंने सितंबर में संकेत दिया कि वह कोप-26 में शामिल नहीं हो सकते हैं। हफ्तों की शुरुआती झिझक के बाद, कुछ दिन पहले उन्होंने घोषणा की कि वे 31 अक्टूबर से 12 नवंबर तक ग्लासगो में होने वाले जलवायु सम्मेलन में भाग लेंगे।

"विश्वास 4 जलवायु न्याय" कार्यक्रम

रविवार को, देश भर में विशवासी समुदायों ने घंटी बजाकर, गायन, प्रार्थना, ध्यान, अज़ान (इस्लामी परंपरा में प्रार्थना करने का आह्वान), यहूदी शोफ़र बजाकर, या अन्य धार्मिक अनुष्ठानों द्वारा जलवायु अलार्म बजाने के लिए आमंत्रित किया था। अगले दिन "विश्वास 4 जलवायु न्याय" कार्यक्रमों में भाग लेने वालों ने संघीय सांसद के कार्यालयों के बाहर ऑस्ट्रेलियाई राजनीतिक नेताओं को अपनी आवाज सुनने के लिए बाध्य किया। एआरआरसीसी ने प्रधान मंत्री स्कॉट मॉरिसन को एक पत्र भी भेजा जिसमें संयुक्त राष्ट्र जलवायु शिखर सम्मेलन में एक मजबूत जलवायु नीति मंच पेश करने का आह्वान किया गया।

जलवायु परिवर्तन के खिलाफ कार्रवाई की तत्काल आवश्यकता

पूरे ऑस्ट्रेलिया में ख्रीस्तियों, मुसलमानों और यहूदियों सहित 110 से अधिक विश्वासी समुदायों ने पहल में भाग लिया। पररामट्टा में संत पैट्रिक महागिरजाघर के डीन, फादर रॉबर्ट रिडलिंग ने ऑस्ट्रेलियाई धर्माध्यक्षों के कैथन्यूज़ को बताया कि 2050 तक नेट-शून्य उत्सर्जन के बारे में बहुत कुछ किया जा रहा है, आयोजक 2030 तक लक्ष्य के लिए मांग कर रहे हैं। फादर रिडलिंग ने कहा, "काथलिक कलीसिया में समाज की एक विकसित परंपरा है न्याय”, "हम जानते हैं कि जलवायु परिवर्तन से सबसे अधिक प्रभावित लोग हाशिए पर हैं और वंचित हैं, इसलिए हम एक कलीसिया के रूप में, अन्य कलीसियाओं और अन्य धार्मिक परंपराओं के साथ, उम्मीद कर रहे हैं कि हम इस बात पर प्रकाश डाल सकते हैं कि क्या किया जाना चाहिए और इस मुद्दे पर कार्रवाई के लिए सरकार से मांग करनी चाहिए।"

सृष्टि के उपहार का संरक्षण

संत जोसेफ की धर्मबहनों ने ऑस्ट्रेलिया से ग्रह की सुरक्षा को सबसे आगे रखने की प्रतिबद्धता बनाने का भी आह्वान किया। एक बयान में सिस्टर मोनिका कैवानघ ने कहा, “अगर हम ग्रह की सुरक्षा के लिए कार्रवाई नहीं करते हैं तो आईपीसीसी के निष्कर्ष एक भयावह भविष्य की चेतावनी देते हैं। हमारे प्रशांत पड़ोसी देख रहे हैं कि उनकी जमीनें गायब हो रही हैं। हम जानते हैं कि जो लोग सबसे अधिक रक्षाहीन होते हैं, वे हमारे द्वारा की जा रही तबाही से सबसे अधिक प्रभावित होते हैं।" सिस्टर मोनिका ने कहा, “हमारी धार्मिक आस्था और मानवता के रूप में हमें सृष्टि के उपहार को संरक्षित करने के लिए हर संभव प्रयास करने हेतु प्रेरित करते हैं।"

20 October 2021, 15:34