खोज

कतर में चल रहा विश्व कप  2022- कतर में चल रहा विश्व कप 2022-  (ANSA)

संत पापा : युद्ध की पीड़ा में, विश्व कप शांति का अवसर है

आम दर्शन समारोह में अपने अभिवादन में, संत पापा ने कतर में कार्यक्रम में भाग लेने वाले खिलाड़ियों और प्रशंसकों का अभिवादन किया। यूक्रेन के लोगों और इंडोनेशिया में हाल ही में आए भूकंप के पीड़ितों के लिए प्रार्थना की। नये धन्य फादर जुसेप्पे एम्ब्रोसोली का जीवन "बाहर जाती कलीसिया" की एक असाधारण गवाही है।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, बुधवार 23 नवम्बर 2022 (वाटिकन न्यूज) : वर्तमान में क़तर में आयोजित होने वाला विश्व फुटबॉल कप "राष्ट्रों के लिए मिलने और एकजुट होने का एक अवसर" हो और "लोगों के बीच भाईचारा और शांति" को बढ़ा दे। यह संत पापा फ्राँसिस की आशा है, जिन्होंने बुधवारीय आमदर्शन समारोह के बाद खिलाड़ियों, प्रशंसकों और दर्शकों का अभिवादन किया जो इस कार्यक्रम में भाग ले रहे हैं और विभिन्न देशों से विश्व फुटबाल कप को देख रहे हैं।

यूक्रेनी लोगों की भयानक पीड़ा

संत पापा ने शहीद यूक्रेनी लोगों की भयानक पीड़ा को याद करते हए कहा,, आइए हम युद्ध से पस्त यूक्रेन एवं दुनिया में शांति के लिए और सभी संघर्षों के अंत के लिए प्रार्थना करें। अगला शनिवार 1932-33 में स्टालिन द्वारा कृत्रिम रूप से किए गए भूख से विनाश, होलोडोमोर के भयानक नरसंहार का सालगिरह है। आइए, हम इस नरसंहार के पीड़ितों के लिए प्रार्थना करें और कई यूक्रेनियन, बच्चों, महिलाओं और बुजुर्गों, बच्चों के लिए प्रार्थना करें, जो आज आक्रामकता की शहादत का शिकार हैं।

इंडोनेशिया में भूकंप पीड़ितों के लिए प्रार्थना

पिछले सोमवार को जावा द्वीप पर आए भूकंप में मारे गए लोगों और घायलों के लिए फ्रांसिस ने प्रार्थना की। उन्होंने इंडोनेशियाई आबादी के साथ अपनी निकटता व्यक्त की गई थी, जिसमें 250 से अधिक लोग मारे गए थे।

विश्व मत्स्य दिवस

विश्व मत्स्य दिवस परसों मनाया गया। एक विचार मछुआरों के अधिकारों का सम्मान करने के लिए भी गया, जो "अपने कामों द्वारा "खाद्य सुरक्षा, पोषण और दुनिया में गरीबी को कम करने में योगदान" दे रहे हैं। उत्पीड़ित ईसाइयों को समर्पित पोलैंड में रेड वीक पहल को भी संत पापा का अभिवादन पहुँचा।

नये धन्य फादर एम्ब्रोसोली की गवाही

संत पापा ने कोमबोनी मिशनरी पुरोहित और डॉक्टर, फादर जुसेप्पे एम्ब्रोसोली को याद किया, जिन्हें पिछले रविवार, कलोंगो, युगांडा में, धन्य घोषित किया गया। उनका जन्म इटली के कोमो धर्मप्रांत में हुआ था और युगांडा में बीमारों के लिए अपना जीवन बिताने के बाद 27 मार्च 1987 को उनकी मृत्यु हो गई। मिशनरी ने बीमारों में मसीह को देखा। उनकी उल्लेखनीय गवाही हम में से प्रत्येक को बाहर जाने वाली कलीसिया का सदस्य बनने में मदद करती है। इसके बाद संत पापा ने प्रांगण में उपस्थित विश्वासियों से नए धन्य के सम्मान में तालियाँ बजाने को कहा और पूरा प्रांगण में तालियों की गड़गड़ाहट गूंज उठा!

23 November 2022, 15:50